VT News India
Others

शिकायतों के बाद भी कार्रवाई न होते देख इलेक्ट्रो होम्योपैथी चिकित्सक ने मुख्यमंत्री व मंत्री महेंद्र सिंह को व्हाट्स्एप पर किया शिकायत

  • अब देखना है की किस करवट बैठेगा ऊंट तीन साल से हो रही शिकायत परन्तु नहीं चेत रहे जिले के आला अप्फसर
  • प्रदेश सरकार की कानून ब्यवस्था बनी मजाक झोलाछाप चिकित्सकों की बल्ले-बल्ले आप्रशिक्षित चिकित्सकों की हो रही है दिन दूनी रात चौगुनी कमाई
  • जिलाधिकारी व मुख्य चिकित्सा अधिकारी को जरिए व्हाट्स्एप बिना मास्क उपचार करते चिकित्सक के वीडियो का जिक्र

बाबा बाजार/मवई, अयोध्या। इलेक्ट्रो होम्योपैथी चिकित्सक अंशुमान सिंह ने व्हाएट्स्एप पर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व मंत्री डॉ महेंद्र सिंह को भेजे संदेश में लिखा है कि वे एक इलेक्ट्रो होम्योपैथिक उपाधिधारी चिकित्सक हैं किन्तु क्षेत्र में झोलाछाप चिकित्सकों की बढ़ती तादात के कारण उनका चिकित्सा ब्यवसाय धीरे-धीरे समाप्त होता जा रहा है उक्त मान्यता प्राप्त चिकितशक एकदम बेरोजगार हो गया है।वर्ष 2017 से इस संबंध मेंअब तक मैंने अनेकों बार शिकायत किया किंतु कोई सुनवाई नहीं हो रही है। हमारे पड़ोसी गांव कसारी में दो कथित बंगाली चिकित्सक हैं जिनमें से एक का नाम संजय व दूसरे का नाम संदीप बताया गया है, तथा हमारे सुनबा गांव के बहबरा नामक चौराहे पर दो चिकित्सक हैं जिनमें से एक का नाम राहुल शर्मा व दूसरे का प्रदीप कुमार (प्रेम चंद) है ये चार अप्रशिक्षित चिकित्सक मेरे रोजगार के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं जिससे आर्थिक तंगी आन खड़ी हुई है इनके अलावा और भी करीब आधा दर्जन झोलाछाप डॉक्टर झोला लेकर गांव की राहों में घूम-घूम कर डोर टू डोर उपचार करने में मशगूल हैं ।इस संबंध में पिछले वर्ष एक पत्र मैंने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मवई के अधीक्षक डॉ रविकांत वर्मा को भी दिया था कार्रवाई नहीं हुई तो उस संबंध में जनसूचना अधिकार के तहत सूचना मांगा तो बताया गया कि मुख्य चिकित्सा अधिकारी से सूचना देने व अग्रिम कार्यवाही हेतु परमिशन के लिए पत्र लिखा गया है परमिशन मिलते ही कार्रवाई की जाएगी किंतु पूरे एक वर्ष का समय बीत गया अभी तक न मुख्य चिकित्सा अधिकारी महोदय ने परमिशन दिया न ही कोई कार्रवाई किसी पर हुई।गत जुलाई में भी मैंने मुख्य चिकित्सा अधिकारी अयोध्या एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अयोध्या को पंजीकृत डाक से शिकायती पत्र भेजा लेकिन दो महीने का समय बीत गया और इस संबंध में न अभी तक पुलिस जांच को आई और न ही स्वास्थ्य विभाग। झोलाछाप डॉक्टरों पर कार्रवाई का जिम्मा स्वास्थ्य विभाग का ही बनता है लेकिन यह विभाग सुनने को को कौन कहे मौके पर जाकर जानकारी करने को भी तैयार नहीं है। जिसके कारण क्षेत्र में झोलाछाप डॉक्टरों की संख्या दिनों दिन कुकुरमुत्ता की तरह बढ़ती जा रही है। वर्तमान समय के कोरोनावायरस महामारी काल में भी ये चिकित्सक मास्क तक नहीं लगाते इस संबंध में मैंने एक चिकित्सक का बगैर मार्क्स लगाए रोगी का उपचार करते हुए वीडियो भी श्रीमान जिलाधिकारी व मुख्य चिकित्सा अधिकारी अयोध्या को भेजा था फिर भी कोई कार्रवाई नहीं हुई। उन्होंने ने लिखा है किइस समय सभी जिम्मेदार अधिकारी मौन धारण किए हैं आखिर क्यों इसलिए मुझे मजबूर होकर श्रीमान जी को जरिए व्हाट्स्एप शिकायत करना पड़ रहा है। झोलाछाप डॉक्टरों का पालन-पोषण स्वस्थ्य विभाग कर रहा है ये एक कटु सत्य है वर्ना ये विभाग विधिक कार्रवाई झोलाछाप चिकित्श्को के विरुद्ध करने में क्यों कतरा रहा है? सच तो यह है कि क्षेत्र में झोलाछाप नर्सिंग होम तक चलटे हैं आये दिन समाचार प्रकाशित होते रहते हैं किन्तु जिले के स्वास्थ्य विभाग पर समाचारों का भी कोई असर नहीं पड़ता ऐसा प्रतीत होता है कि स्वास्थ विभाग के अधिकारी कर्मचारी झोलाछाप चिकित्सको के किसी प्रकार के बोझ तले दबे हुए हैं।

दिनेश कुमार वैश्य, विशेष संवाददाता

Related posts

बैसवारा साधना समिति रायबरेली के प्रबंधक और सामाजिक कार्यकर्ता अनुज शुक्ला द्वारा चलाया जा रहा अभियान  “अबकी दिवाली मिट्टी के इंजीनियरों वाली”

Vt News

सदर बाजार में मकान निर्माण के दौरान छज्‍जा गिरने से चार मजदूर घायल

Vt News

सोरों स्थित डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी की स्मारक पर उनके बलिदान दिवस पर भाजपा पदाधिकारियों ने माल्यार्पण श्रद्धा सुमन अर्पित कर उन्हें याद किया**रिपोर्ट कपिल दीक्षित

Vt News