VT News India
Varanasi

काशी विद्यापीठ के स्नातक अंतिम खंड की परीक्षाएं शुरू

वाराणसी । महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के स्नातक (यूजी) के अंतिम खंड की अवशेष परीक्षाएं बुधवार से शुरू हो गईं। दाे पालियों में परीक्षाएं होने के कारण सुबह से शाम तक परिसर में परीक्षार्थियोें की चहलकदमी बनी रही है। छात्र-छात्राओं से परिसर में पूरे दिन रौनक बनी रही है। कोविड-19 के प्रकोप के चलते विश्वविद्यालय 18 मार्च से ही बंद चल रहा था। ऐसे में करीब साढ़े पांच माह से परिसर का सन्नटा टूटा। हालांकि परीक्षा छूटते ही ज्यादातर परीक्षार्थी सीधे अपने-अपने घरों की ओर कूच कर गए।वाराणसी सहित छह जिलों में बीए, बीकाम, बीएससी, बीएफए्र बी.म्यूज (तृतीय खंड) व बीएससी-कृषि (चतुर्थ खंड) की करीब 72000  परीक्षार्थी हैं। कोविड-19 के प्रकोप को देखते हुए परीक्षार्थियोें की संख्या कम होने के बावजूद 159 केंद्रों पर परीक्षाएं कराई जा रही हैं। वहीं पहले दिन दोनों पालियों में महज 10668 परीक्षार्थी ही परीक्षा में पंजीकृत थे। इसमें प्रथम पाली में 2758 व द्वितीय पाली में 7910 परीक्षार्थी शामिल हैं। प्रथम पाली सुबह आठ बजे से 11 बजे तक बीए-दर्शन, अरबी, व बीएससी-जंतुविज्ञान  की परीक्षा थी। वहीं द्वितीय पाली दोपहर दाे बजे से शाम पांच बजे तक में बीकाम, बीए/बीएससी-सांख्यिकी, बीएससी बायोटेक, माइक्रोबायो की परीक्षाएं थी।परीक्षा नियंत्रक डा. एसएल माैर्य के मुतबिक सभी केंंद्रों पर शांतिपूर्ण तरीके से परीक्षाएं तरीके से हुई। परीक्षार्थियोें की करीब 98 फीसद की उपस्थति रही। कुलसचिव ने कोविड-19 को देखते हुए सभी केंद्रों पर परीक्षार्थियोें मानक के अनुसार दूर-दूर बैठाने का दावा किया है। कहा कि परीक्षार्थियोें की गेट पर थर्मल स्कैनिंग कराई गई थी। गेट पर ही सैनिटाइजर की भी व्यवस्था की गई थी। हालांकि तमाम केंद्रों पर परीक्षार्थियोें के लिए सैनिटाइजर की कोई सुविधा नहीं थी। परीक्षार्थी स्वयं अपना सैनिटाइजर लेकर परीक्षा देने पहुंचे थे। वहीं मास्क लगाए हुए थे। कुछ परीक्षार्थियोें में कोरोना महामारी में परीक्षा कराने जाने को लेकर शिकायत भी देखी गई। इन परीक्षार्थियोें का कहना था कि प्रथम व द्वितीय खंड की भांति तृतीय खंड में भी बगैर परीक्षा के प्रोन्नत कर देना चाहिए था। वहीं कुछ परीक्षार्थी अवशेष परीक्षा कराए जाने के निर्णय से सहमत दिखे। ऐसे परीक्षार्थियोें का कहना है कि परीक्षा होने में डिविजन सुधारने का मौका मिल गया है। पेपर भी अच्छा हुआ है। बहरहाल विद्यापीठ में परीक्षाएं शुरू करा कर राज्य अन्य विश्वविद्यालयों के लिए भी मार्ग प्रशस्त कर दिया है।

Related posts

धुंध के बाद आसमान साफ रहा.तेज धूप खिलने से ठंड से मिली राहत

VT News

जीवित पुत्रिका व्रत पर्व पर गंगा किनारे गंगा प्रहरी दर्शन निषाद ने संदेश दिया

VT News

डाटपुल सरैया के पास हुई पुलिस मुठभेड़ की मजिस्ट्रियल जांच शुरू

VT News