VT News India
Lucknow

नहरों में नहीं पानी सरकारी नलकूप चालकों की मनमानी

 

मोहनलालगंज , लखनऊ । तहसील क्षेत्र अन्तर्गत लगने वाले दर्जनों गांवो में पानी की किल्लत के अभाव में धान की फसल खराब हो रही है सरकारी नलकूपों पर दबंगो का कब्जा, नहरे सुखी,डीजल की महगाई से बेहाल हैं।विकास खंड क्षेत्र में किसानों को सिंचाई के लिए पानी न मिलने से किसानों की तैयार धान की फसल खराब होने की कगार पर है क्षेत्र के दर्जनों गांवों के किसानों की धान की फसले विभिन्न रोगों से ग्रसित होने लगी है । किसानों को आस थी कि बरसात अच्छी होगी लेकिन पहले तो बरसात कुछ हद तक सही रही लेकिन बाद में एकाएक बारिश न होने से किसानों की धान की फसलें प्रभावित होने लगी । किसान सरकारी नलकूपों से किराए के पानी व निजी नल कूपो से सिंचाई कर धान की फसलें बचाने हेतु सतत प्रयास रत है। कुदरती पानी न गिरने से धान की फसलो में विभिन्न प्रकार के रोगों से ग्रसित होने लगी है ,वही किसानों के मुताबिक इस क्षेत्र की नहरे भी सुखी पड़ी है इतना ही नही किसानों की माने तो नहरों में समय से पानी ही नहीं आता है जैसे गोविंदपुर कोराना, जबरौली , गौतमखेड़ा , भरसवा , मीनापुर , मीरखनगर , शै रपुर लवल सहित अन्य गांवो के किसान अपने अपने निजी नलकुपो के सहारे ही खेती किसानी के कार्य सुचारू रूप से कर पाते है नहरों में समय से नहीं आता पानी, किसानों को हो रही परेशानी ,नलकूप चालक की मनमानी से किसान बेहाल है । बढ़ती महंगाई में डीजल की कीमतों में आयी उछाल ने किसानों की कमर तोड़ कर रख दी। ऊपर से इंद्र देव की नाराजगी का दंश किसानों के लिए मुसीबत का सबब बन चुका है कोरोना काल मे एक तो वैसे ही किसान सहित अन्य लोग खाशे परेशान है और धान की फसलो में लग रहे रोगों से निजात पाने हेतु किसान कीटनाशक दवाओं सहित कृषि विभाग के अधिकारियों के पास पहुच उचित परामर्श लेकर धान की फसल में लगने वाले रोगों से बचाव हेतु संघर्षरत है अब गौर करने वाली बात ये है कि क्या किसान अपनी धान की फसल को समुचित पानी ब्यवस्था व उचित रसायनिक दवाओं का छिड़काव कर अपनी अपनी फसल जेब ढीली कर बचा सकेंगे, किसान खरीफ की फसल अपने घरो तक पहुचा पाएंगे या नही वही किसान महेश , सुरेश , श्याम , अरुण , गोवर्धन , ने बताया कि आखिर कब दूर होंगी किसानों कि समस्याएं । वहीं शैर पुर लवल निवासी सुरेन्द्र चौरसिया ने आरोप लगाया कि सरकारी नल कूप लगा है लेकिन बिना पैसे सिंचाई का पानी नहीं मिलता है ,अगस्त माह में नलकूप चालक रवि से जब खेतो में पानी लगाने कि बात कही तो गांव के दबंग किसान के हाथो में चाभी होने की बात कही तथा चौरसिया ने बताया कि बोरिंग बैठी होने पर हम सब ने पैसे एकत्र कर गिट्टी डलवाई थी फिर भी पानी के लिए चक्कर काटते रहे ,कभी पंप चालक के पास तो कभी दबंग किसान के पास लेकिन सरकारी नल कूप से पानी नहीं मिल सका, सरकार किसानों के लिए घोषणाएं करती है लेकिन धरातल पर कुछ नजर नहीं आता है अन्न दाता किसान की आवाज कोई सुनने को तैयार नहीं है।

Related posts

पंचायत चुनाव मेंअयोध्या.काशी व मथुरा में भाजपा को  झटका

VT News

जिला जेल में निरुद्ध कैदी अब पीसीओ से कर सकेंगे अपने घरवालो व परिजनों से अपनी बात

Vt News

भ्रष्टाचार बेरोजगारी को लेकर सपा विधायक व सैकड़ो सपा कार्यकर्ताओं का योगी सरकार के खिलाफ धरना प्रदर्शन

Vt News