VT News India
Lucknow

कानून व्यवस्था से भयहीन दुराचारी

लखनऊ। हाथरस के भयावह कृत्य ने देश को एक बार फिर करुणा एवं शर्मिंदगी के मिले जुले भाव के साथ स्थब्ध कर दिया है निर्भया प्रकरण में पूरे देश के एक साथ आने और कठोर से कठोर कानून बनाए जाने के बाद भी देश ठगा सा महसूस कर रहा है निर्भया प्रकरण के बाद राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो “(एनसीआरबी) के नवीनतम आंकड़ों के मुताबिक 2018 में देश में हर चौथी दुष्कर्म पीड़िता नाबालिग थीं, जबकि 50 फीसदी से ज्यादा पीड़िताओं की उम्र 18 से 30 साल के बीच थी आंकड़ों में कहा गया कि 2018 में दुष्कर्म के 33,356 मामले दर्ज किए गए, जिनमें 32,977 पीड़िताएं थीं और औसतन 89 दुष्कर्म रोजाना. 2017 में दुष्कर्म के 32,559 मामले दर्ज किए गए थे, जबकि 2016 के लिए यह आंकड़ा 38,947 था”। इन दुराचारियों को कानून व्यवस्था का भय ही नहीं है, कठोर से कठोर कानून बनाए जाने के बाद भी दुराचारियों का दुस्साहस कम होता नहीं दिख रहा यह दुराचारी बार-बार भूल जाते हैं जिन स्त्रियों के साथ ऐसे भयावह कृत्य होते हैं उन्हें हमारे समाज में देवी का स्थान प्राप्त है दुराचारी जिस अंकुर से अंकुरित है, वह भी एक स्त्री का ही है ऐसी घटनाओं के बाद केवल स्त्री ही भयभीत नहीं होती अपितु पूरा परिवार भय के साए में रहता है पिता पुत्री को अकेला भेजने में असुरक्षित महसूस करता है पुत्री यदि समय से घर न पहुंचे मा बेचैन हो जाती है, ऐसे कृत्य समाज में महिलाओं को असुरक्षित महसूस कराते हैं। हाथरस प्रकरण के बाद भी दुष्कर्म के मामले लगातार सामने आ रहे हैं,यह हमारे देश की बड़ी विडंबना है।

Related posts

उप जिलाधिकारी पल्लवी मिश्रा लगातार सरकारी जमीनों पर से हटवा रही थी कब्जा

Vt News

नेताजी सुभाष चंद्र बोस महिला कालेज में वेबिनार का आयोजन

Vt News

राजधानी लखनऊ में पिछले 24 घंटों के दौरान मुख्य चिकित्सा अधिकारी समेत 500 नए पॉजिटिव केस पाए गए

Vt News