VT News India
National

सोनिया और राहुल के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका, चीन से हुए समझौते पर जांच की मांग

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट में साल 2008 में यूपीए सरकार और चीनी सरकार के बीच साइन हुए एमओयू को लेकर सोनिया, राहुल गांधी एवं अन्‍य कांग्रेस नेताओं के खिलाफ एक याचिका दाखिल की गई है। एक अधिवक्‍ता की ओर से दाखिल की गई इस याचिका में यह मांग की गई है कि शीर्ष अदालत एनआइए को गैरकानूनी गतिविधियां रोकथाम अधिनियम 1967 के तहत उक्‍त समझौते की जांच करने का निर्देश जारी करे।इस बीच गलवन में एलएसी पर चीन के साथ जारी विवाद के बीच कांग्रेस और भाजपा के बीच राजनीतिक घमासान भी तेज हो गया है।

राहुल गांधी के हमलों के जवाब में भाजपा ने चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (सीसीपी) के साथ कांग्रेस के संबंध को बड़ा मुद्दा बना लिया है। सोमवार को मनमोहन सिंह पर चीन को हजारों वर्ग किलोमीटर जमीन समर्पित करने के हमले के बाद भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने इसके लिए कांग्रेस और सीसीपी के बीच हुए समझौते को जिम्मेदार बताया था।मंगलवार को जेपी नड्डा ने 2008 में कांग्रेस पार्टी और सीसीपी के बीच समझौते और उसके बाद मनमोहन सिंह सरकार और कांग्रेस के बदले रवैये से जुड़े फैसलों को ट्वीट किया। उनके अनुसार समझौते के बाद ही तत्कालीन कांग्रेस के नेतृत्व वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार ने चीन के सामने हजारों किलोमीटर जमीन समर्पित कर दी। जब डोकलाम हुआ तो राहुल गांधी भारत में चीनी राजदूत से मिलने चीनी दूतावास में चले गए। यह बात उन्होंने छुपाने की भी कोशिश की। भाजपा का कहना है कि अब जब चीन के साथ एक बार फिर तनाव है तो राहुल गांधी सेना का मनोबल गिरा रहे हैं। भाजपा अध्यक्ष ने पूछा कि क्या ये समझौते का असर है?ध्यान देने की बात है कि इसके पहले भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने भी सीसीपी और कांग्रेस के बीच हुए समझौते का मुद्दा उठाया था। पात्रा ने कांग्रेस और राहुल गांधी से इस समझौता का विस्तृत ब्योरा देश के सामने रखने की मांग की थी। उनके अनुसार दोनों पार्टियों के बीच यह समझौता तत्कालीन संप्रग सरकार तक सीमित नहीं है बल्कि हमेशा के लिए है। यानी अब भी यह जारी है। वहीं कांग्रेस ने आज भी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा है कि भाजपा सांसद तापिर गाव ने अरुणाचल प्रदेश में 50-60 किलोमीटर क्षेत्र पर चीन की सेना के कब्जा करने का दावा किया है जिस पर सरकार को तत्काल सफाई देनी चाहिए। पार्टी प्रवक्ता मनीष तिवारी ने कहा कि सरकार को बताना चाहिए कि तापिर गाव की बात सही है या गलत… उन्होंने वीडियो लिंक के जरिए प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित किया। कांग्रेस नेता ने कहा कि लद्दाख में चीनी घुसपैठ की खबर आने के बाद से भाजपा नीत सरकार इसे दबाने की कोशिश करती रही। अब भाजपा सांसद तापिर गाव ने जो कहा है, उस पर सरकार को जनता के सामने सच्‍चाई बतानी चाहिए।

Related posts

मणिपुर में असम रायफल के काफि‍ले पर हमला, पांच जवान शहीद, CO की पत्नी और बेटे की भी मौत, पीएम मोदी ने जताया शोक, जानें क्‍या कहा

VT News

धीमी पड़ने लगी कोरोना संक्रमण की रफ्तार, बीते 24 घंटों में 3.29 लाख नए संक्रमितों

VT News

टीएमसी सांसद सौगत रॉय ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के पहनावे पर की टिप्पणी

Vt News