VT News India
National

पराली से 4 फीसदी प्रदूषण वाले बयान पर बढ़े विवाद के बाद जावड़ेकर की सफाई

राजधानी दिल्ली में लगातार बढ़ते प्रदूषण के बाद इसको लेकर हरकत में आई दिल्ली सरकार की तरफ से उठाए गए कई कदम उठाए गए हैं। इस बीच केन्द्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर के उस बयान ने तूल पकड़ लिया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि दिल्ली के प्रदूषण में पराली का योगदान सिर्फ 4 फीसदी है। इसके बाद जावड़ेकर ने सफाई देते हुए कहा कि दरअसल उनके कहने का मतल था कि पराली का चार फीसदी प्रदूणष इस हफ्ते का है। जावड़ेकर ने कहा, पराली का चार फीसदी प्रदूषण इस सप्ताह का है। दिल्ली के प्रदूषण में पराली की हिस्सेदारी चालीस फीसदी तक है।

पहले क्या बोले थे पराली पर जावड़ेकर

इससे पहले, जावड़ेकर ने कहा था कि सर्दियों के मौसम में दिल्ली में हमेशा प्रदूषण की समस्या गंभीर हो जाती है। इसमें हिमालय की ठंडी हवा, गंगा के मैदानों में बनने वाली नमी, हवा की धीमी रफ्तार, स्थानीय स्तर पर निर्माण कार्य के दौरान बनने वाली धूल, सड़क किनारे की धूल, वाहनों से निकलने वाला धुआं, लोगों द्वारा खुले में कूड़ा जलाया जाना, आसपास के राज्यों में किसानों द्वारा पराली जलाया जाना आदि कई कारक हैं।

उन्होंने कहा कि आज दिल्ली के प्रदूषण में पराली का योगदान मात्र चार प्रतिशत है। शेष 96 फीसदी प्रदूषण स्थानीय कारकों की वजह से है। हालांकि इसके बावजूद उन्होंने पराली जलाने की घटनाओं को रोकने को लेकर पंजाब की कांग्रेस सरकार को कड़े शब्दों में हिदायत दी। उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार को ध्यान देना चाहिये कि वहां पराली ज्यादा न जले। पंजाब सरकार तुरंत हरकत में आये ताकि पराली कम जले। इससे राज्य के लोगों को भी परेशानी होती होगी।

जावड़ेकर के बयान पर केजरीवाल ने साधा निशाना

प्रकाश जावड़ेकर की इस टिप्पणी पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की प्रतिक्रिया भी आई है। अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया है और लिखा, बार-बार इनकार करने से कुछ नहीं होग। अगर पराली जलने से केवल 4 फीसदी प्रदूषण होता है, तो प्रदूषण में अचानक रात में ही यह वृद्धि क्यों हुई है? उससे पहले हवा साफ थी। एक ही कहानी हर साल। कुछ ही दिनों में दिल्ली में प्रदूषण को लेकर ऐसा कोई उछाल नहीं हुआ है।उन्होंने एक और ट्वीट में लिखा, इस बात को मानना ही होगा कि हर साल उत्तर भारत में पराली जलने के कारण प्रदूषण फैलता है और इसे हमें साथ में मिलकर लड़ना होगा। राजनीति और एक दूसरे पर आरोप लगाने से कुछ नहीं होगा, लोगों को नुकसान हो रहा है। मैं सच में चिंतित हूं कि कोरोना के वक्त में इस तरह प्रदूषण का संकट चिंता का विषय है।

Related posts

SC ने पीएम केयर्स फंड को एनडीआरएफ में ट्रांसफर करने की मांग खारिज की

Vt News

देशभर में टीकाकरण की मुहिम हुई तेज

VT News

बारामूला जिले के पट्टन में चल रही मुठभेड़ में एक आतंकवादी मारा गया

Vt News