VT News India
National

FAO की वर्षगांठ पर PM मोदी ने जारी किया 75 रुपये का स्मृति सिक्का

नई दिल्ली। आज खाद्य एवं कृषि संगठन की 75वीं वर्षगांठ है। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुबह 11 बजे 75 रुपये का स्मृति सिक्का जारी किया। इसके साथ ही पीएम मोदी ने हाल ही में विकसित की गई 8 फसलों की 17 जैव संवर्धित किस्मों को भी राष्ट्र को समर्पित किया। इस दौरान पीएम ने सभी को संबोधित किया। अपने संबोधन में उन्होंने कई विषयों पर अपनी बात रखी।
वर्ल्ड फूड डे के अवसर पर पीएम मोदी ने कहा,’ मैं सभी को बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूं। दुनियाभर में जो लोग कुपोषण को दूर करने के लिए लगातार काम कर रहे हैं, मैं उन्हें भी बधाई देता हूं।इसके साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की बेटियों को संबोधित करते हुए कहा कि बेटियों का ग्रॉस एनरॉलमेंट अनुपात बेटों से भी ज्यादा हो गया है। ऐसे में उन्होंने सभी बेटियों को आश्वासन देते हुए कहा कि बहुत ही जल्द रिपोर्ट आते ही लड़कियों की शादी की सही उम्र पर सरकार कार्रवाई करेगी। बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले से देश के नाम अपने संबोधन में यह बदलाव लाने की बात कही थी।अपने संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत में अनाज की बर्बादी हमेशा से बहुत बड़ी समस्या रही है। अब जब Essential Commodities Act में संशोधन किया गया है, इससे स्थितियां बदलेंगी। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि छोटे किसानों को ताकत देने के लिए, Farmer Producer Organizations यानि FPOs का एक बड़ा नेटवर्क देश में तैयार किया जा रहा है।

किसानों के हित मैं बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि किसानों को लागत का डेढ़ गुणा दाम MSP के रूप में मिले, इसके लिए अनेक कदम उठाए गए हैं। MSP और सरकारी खरीद, देश की फूड सिक्योरिटी का अहम हिस्सा हैं। इसलिए इनका जारी रहना स्वभाविक है।

किसानों ने तोड़ा पिछले साल का प्रोडक्शन रिकॉर्ड- मोदी

पीएम ने कहा कि क्या आप जानते हैं कि कोरोना के कारण जहां पूरी दुनिया संघर्ष कर रही है, वहीं भारत के किसानों ने इस बार पिछले साल के प्रोडक्शन के रिकॉर्ड को भी तोड़ दिया? इसके साथ ही पीएम ने कहा कि क्या आप जानते हैं कि सरकार ने गेहूं, धान और दालें सभी प्रकार के खाद्यान्न की खरीद के अपने पुराने रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं।

संकटकाल में कुपोषण के खिलाफ भारत मजबूती से लड़ रहा है

पीएम ने कहा कि इन सभी के प्रयासों से ही भारत कोरोना के इस संकटकाल में भी कुपोषण के खिलाफ मजबूत लड़ाई लड़ रहा है। भारत के हमारे किसान साथी- हमारे अन्नदाता, हमारे कृषि वैज्ञानिक, हमारे आंगनबाड़ी-आशा कार्यकर्ता, कुपोषण के खिलाफ आंदोलन का आधार हैं। इन्होंने अपने परिश्रम से जहां भारत का अन्न भंडार भर रखा है, वहीं दूर-सुदूर, गरीब से गरीब तक पहुंचने में ये सरकार की मदद भी कर रहे हैं।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर बताया था कि 16 अक्टूबर यानी आज सुबह 11 बजे, एफएओ (FAO) की 75 वीं वर्षगांठ के अवसर पर 75 रुपये का स्मारक सिक्का जारी किया जाएगा और हाल ही में विकसित 8 फसलों की 17 बायोफोर्टिफाइड किस्मों को भी राष्ट्र को समर्पित किया जाएगा। सिक्के को जारी करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इस साल का नोबेल शांति पुरस्कार विश्व खाद्य कार्यक्रम से सम्मानित किया जाना एक बड़ी उपलब्धि है। भारत खुश है कि हमारा योगदान और इसके साथ जुड़ाव ऐतिहासिक रहा है।

प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) की तरफ से 2 दिन पहले एक बयान जारी कर बताया गया था कि यह कार्यक्रम सरकार द्वारा कृषि और पोषण क्षेत्र को दी गई सर्वोच्च प्राथमिकता को समर्पित है। इसके साथ ही भूख,अल्पपोषण और कुपोषण को पूरी तरह से खत्म करने के सरकार के संकल्प को मजबूत करने में योगदान देता है।

इससे पहले जारी किया था 100 रुपये का स्मारक सिक्का

बता दें कि इससे पहले पीएम मोदी ने राजमाता विजयाराजे सिंधिया के जन्म शताब्दी के मौके पर 100 रुपये का स्मारक सिक्का जारी किया था। राजमाता सिंधिया के सम्मान में सरकार की तरफ से 100 रुपये का सिक्का जारी किया गया था। इस दौरान पीएम ने कहा था कि पिछली शताब्दी में भारत को दिशा देने वाले कुछ एक व्यक्तित्वों में राजमाता सिंधिया भी शामिल थीं।

Related posts

SC ने दिए यूनिटेक के पूर्व प्रमोटरों की तिहाड़ अधिकारियों के साथ मिलीभगत के जांच के आदेश

VT News

केंद्र सरकार की पूरी प्लानिंग ,ऑक्सीजन प्लांट को उत्तर भारत में लगाने पर होगा खास जोर

VT News

सुप्रीम कोर्ट: दीपावली के अवसर पर पटाखों से जुड़ी क्या दी है राहत

VT News