VT News India
National

भारत में कोरोना की वैक्सीन जनवरी तक आने की उम्मीद, ट्रायल अंतिम चरण मेंः गुलेरिया

नई दिल्ली,। भारत में कोरोना की वैक्सीन को लेकर एम्स दिल्ली के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया ने करोड़ों लोगों को खुशखबरी देने वाला बयान दिया है। उन्होंने कहा कि भारत में कोरोना वैक्सीन का ट्रायल अंतिम चरण में है। उम्मीद है कि इस महीने के अंत तक या अगले महीने की शुरुआत में हमें सफलता मिल जाएगी। गुलेरिया ने कहा कि उम्मीद है कोरोना की वैक्सीन जनवरी तक देश में आ जाएगी। उन्होंने कहा कि इसके लिए भारतीय नियामक अधिकारियों (Indian regulatory authorities) से आपातकालीन इजाजत मिलनी चाहिए ताकि जनता को वैक्सीन देना शुरू किया जा सके।रणदीप गुलेरिया ने कहा कि कोरोना के टीके की सुरक्षा और प्रभावकारिता से बिल्कुल भी समझौता नहीं किया गया है। 70,000-80,000 लोगों को टीका दिया गया, कोई गंभीर प्रतिकूल प्रभाव नहीं देखा गया। डेटा से पता चलता है कि अल्पावधि में टीका सुरक्षित है

पहले बुजुर्ग और स्वास्थ्यकर्मियों को लगेगा टीका

डॉ रणदीप गुलेरिया ने कहा कि शुरुआत में टीका सभी को देने के लिए पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं होगा। हमें यह देखने के लिए एक प्राथमिकता सूची की आवश्यकता है कि हम उन लोगों का टीकाकरण करें जिनको कोरोना के कारण मरने की संभावना अधिक है। बुजुर्ग, कॉमरेडिटी वाले लोगों और फ्रंट लाइन स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को कोरोना का टीका सबसे पहले लगाया जाना चाहिए।

ब्रिटेन में फाइजर की वैक्सीन को हरी झंडी

बता दें कि अमेरिकी कंपनी फाइजर और जर्मन कंपनी बायोएनटेक की संयुक्त रूप से विकसित कोरोना वैक्सीन के इस्तेमाल को ब्रिटेन ने स्वीकृति दे दी है। यह कदम उठाने वाला वह दुनिया का पहला देश बन गया है। वहां पर अगले सप्ताह की शुरुआत में टीकाकरण का कार्य शुरू हो जाएगा। सबसे पहले उन लोगों को वैक्सीन दी जाएगी जिन्हें मौत का सबसे ज्यादा खतरा है।

बांह में लगेगा इंजेक्शन

ब्रिटिश सरकार ने एमएचआरए की सिफारिश को औपचारिक रूप से स्वीकार कर लिया है। यह लोगों की बांह में इंजेक्शन के रूप में लगाई जाएगी। वैक्सीन की एक करोड़ खुराक इस्तेमाल के लिए जल्द उपलब्ध हो जाएंगी। इनमें से आठ लाख चंद रोज में ब्रिटेन पहुंच जाएंगी। अनुमान के मुताबिक 2021 में ब्रिटेन वैक्सीन की चार करोड़ खुराक का आयात करेगा। अगले सप्ताह से पूरे ब्रिटेन में वैक्सीन की उपलब्धता हो जाएगी।

दूसरी खुराक के सात दिन बाद पैदा होगी इम्युनिटी

कोरोना से बचाव के लिए फाइजर की वैक्सीन की दो खुराक लेनी होंगी। ये खुराक 21 दिनों के अंतर पर लेनी होंगी। दूसरी खुराक लेने के सात दिन बाद शरीर में मजबूत रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित हो जाएगी, जो वैक्सीन लेने वाले को महामारी से बचाएगी।

Related posts

हिमाचल भाजपा के उपाध्यक्ष और राज्यसभा के पूर्व सांसद ने दिया इस्तीफा

VT News

मुख्यमंत्रियों के साथ वर्चुअल बैठक , पीएम मोदी बोले बिहार, गुजरात, यूपी और बंगाल में टेस्टिंग बढ़ाने की जरूरत

Vt News

बिहार में कांग्रेस के खेवनहार बनेंगे कन्‍हैया, यूपी चुनाव में भी होगी भूमिका

VT News