VT News India
Varanasi

घंटों पडा था शमशान में संक्रमित शव पुलिस के हस्तक्षेप पर हुआ दाह-संस्कार

वाराणसी। हरिश्चंद्र घाट पर बुधवार को कोरोना संक्रमित की लाश घंटों पड़ी रही। इस दौरान मृतक के परिवारीजन ने पहने पीपीई किट को निकाल कर सड़क पर रख दिया तो बवाल हो गया। स्थानीय लोगों ने विरोध कर दिया। सूचना पर पुलिस पहुंची तो परिवारीजन ने प्रशासनिक उपेक्षा का आरोप लगाया।

कहना था कि सीएनजी शवदाह गृह के गेट पर दो घंटे से लाश पड़ी है और कोई सुधि लेने वाला नहीं है। जानकारी दी कि शवदाह में देर होने पर उमस होने लगी थी तो पीपीई किट निकाल कर किनारे रख दिया। इस पर पुलिस ने उन्हें ऐसा नहीं करने के लिए चेताया। साथ ही दाह संस्कार के लिए तत्परता दिखाने का शवदाह गृह कर्मियों को आदेश दिया। थाना प्रभारी यूपी सिंह ने जानकारी दी कि मुकीमगंज निवासी कोरोना पॉजिटिव हरिश्चंद्र महाविद्यालय छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष का पार्थिव शरीर है। बीएचयू स्थित सरसुंदर लाल अस्पताल से हरिश्चंद्र घाट पर दोपहर बाद एंबुलेंस से ले आया गया था। परिवारीजन अंतिम संस्कार के बाद  किट को जलाने के लिए तैयार हो गए तो विरोध कर रहे लोग मान गए। शवयात्रा में कुछ महिलाएं भी थीं। मृतक के दो भाइयों ने आरोप लगाया कि प्रशासन ने कोरोना पॉजिटिव मृतक के साथ उपेक्षा की है। कफन में लपेटकर लाश को घाट तक पहुंचाकर प्रशासन ने जिम्मेदारी की इतिश्री कर ली। घाट पर दाह संस्कार के लिए दर-दर भटकना पड़ा।

रेड जोन की तरह विसंक्रमित हो घाट

हरिश्चंद्र घाट और आसपास के लोगों ने कोरोना संक्रमण से सुरक्षा की मांग की है। कहना है कि जब कोरोना संक्रमित मृतक का अंतिम संस्कार होता है तब मोहल्ले को ठीक से सैनिटाइज नहीं किया जाता। उन्होंने घाट को रेड जोन की तरह विसंक्रमित करने की मांग उठाई।

Related posts

बरेका में फिट इंडिया फ्रीडम रन की लगी दौड़

VT News

देव दीपावलीः पीएम के दीप जलाते ही जगमगा उठी काशी के घाट , मानो देव लोक ही उतर आया धरती पर

VT News

समस्त ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में 05 से 15 जुलाई तक कोविड-19 के अन्तर्गत ‘‘विशेष सर्विलांस अभियान‘‘ चलाया जा रहा है: जिलाधिकारी

Vt News