VT News India
Varanasi

विश्व पर्यावरण दिवस एवं अपरा एकादशी पर यज्ञीय वृक्षारोपण का आयोजन

वाराणसी।  शनिवार को गायत्री तीर्थ शांतिकुंज हरिद्वार के तत्वावधान एवं गायत्री परिवार रचनात्मक ट्रस्ट वाराणसी के संयोजन में विश्व पर्यावरण दिवस एवं अपरा एकादशी पर गायत्री साधकों ने वृहद वृक्षारोपण अभियान का शुभारंभ किया जो गुरुपूर्णिमा तक चलता रहेगा इसी कड़ी में वृहद गौ वंश आश्रय स्थल मधुमक्खीया, बड़ागांव वाराणसी के प्रांगण में पंडित गंगाधर उपाध्याय मुख्य प्रबंध ट्रस्टी(रचनात्मक ट्रस्ट) वाराणसी के संयोजन में वृक्षारोपण, संरक्षण हेतु संकल्प गोष्ठी सायं 4 बजे से हुआ तथा 24 पौधों का रोपण भी गौ वंश आश्रय स्थल के प्रांगण में किया गया। महिला मण्डल कोनिया वाराणसी में यज्ञीय वृक्षारोपण का कार्यक्रम बाल संस्कारशाला संचालिका श्रीमती पुष्पा रानी के संयोजन में मीडिया प्रभारी गायत्री परिवार वाराणसी रमन कुमार श्रीवास्तव के कोनिया स्थित आवास पर संपन्न हुआ जिसके तहत पहले गायत्री यज्ञ का कार्यक्रम सम्पन्न किया गया तदोपरांत 11पौधों का रोपण किया गया साथ ही वृक्षों का रक्षण एवं संरक्षण हेतु संकल्प भी लिया गया। जल मित्र श्री विनोद पांडेय द्वारा सारनाथ क्षेत्र में पौधों के वितरण के साथ फरीदपुर सारनाथ में पौधों का रोपण किया गया।
यज्ञीय पौधारोपण के महत्व के बारे में श्रीमती पुष्पा रानी संचालिका महिला मंडल वाराणसी ने बताया कि वर्तमान समय पूरी दुनिया में कोरोना संक्रमण अपना पाँव पसारे हुए है और यह भी ज्ञात हुआ है कि हवा में भी कोरोना वायरस विधमान है ऐसी स्थित में कोरोना संक्रमण को समाप्त करने का एक मात्र उपाय दुनिया का सबसे पुराना सैनिटाइजर का माध्यम यज्ञ है ।यज्ञ से उठने वाले धुंए से हवा में फैले कोरोना का समूल नाश हो जाएगा, वातावरण शुद्ध होगा साथ ही वायु में ऑक्सीजन की मात्रा बढेगा एवं पौधे वातावरण से अशुद्ध वायु को खींचकर वायु में ऑक्सीजन की मात्रा को बढ़ाएंगे।जिससे प्राकृतिक संतुलन बना रहेगा।एवं बरसात में भूमि की उपजाऊ मिट्टी का कटान भी नही होगा।
वृक्षारोपण के महत्व के बारे में आध्यात्मिक संदेशवाहक श्री अनिलेष तिवारी ने कहा कि वृक्ष माँ धरती के श्रृंगार है ।वृक्ष कार्बनडाई ऑक्साइड को वातावरण से खींचकर आक्सीजन प्रवाहित करने के सबसे बड़े कारक हैं। विकास के नाम पर बृक्षों की अंधाधुन कटाई ने दुनिया के सामने ग्लोबल वार्मिंग की परिस्थितिया उत्पन्न हो गया ।वृक्ष बादलों को अपनी ओर आकर्षित कर बरसात को अपनी ओर आकर्षित करते हैं एवं भूगर्भीय जल के स्तर को बनाये रखते है। अतः अब भी समय है वृक्षों का रोपण, संरक्षक एवं पोषण करें अन्यथा वह दिन दूर नहीं जब लोगों को पीठ पर आक्सीजन लेकर चलना मजबूरी होगी।
यज्ञीय पौधारोपण कार्यक्रम में आध्यात्मिक संदेशवाहक श्री अनिलेष तिवारी, गंगाधर उपाध्याय, रमेश सिंह, विनोद पांडेय, उदित सहाय, रामाशंकर सिंह, सिंह, बेचू लाल, सत्यप्रकाश गुप्ता, सी ए घनञ्जय ओझा, महेश मौर्या श्रीमती स्वेता मिश्रा, सावित्री सिंह, अनिला बरनवाल, अजय लक्ष्मी सिंह, ज्योतिप्रभा राय, राधिका देवी, पुष्पा रानी, कुमारी शाम्भवी एवं मीडिया प्रभारी रमन कुमार श्रीवास्तव सहित सैकड़ों गायत्री साधकों ने भाग लिया।

Related posts

कोविड-19 व संचारी रोग नियंत्रण के लिए अपर मुख्य सचिव की समीक्षा

Vt News

सदस्य आम जनता का मजबूती के साथ सहयोग करने में सक्षम बनें- जिलाधिकारी

VT News

पूर्वाहन तक 11 तथा सायं तक 32 सहित कुल 43 नये कोरोना संक्रमित मरीज मिले, 2 की मौत

Vt News