VT News India
Varanasi

गुरु आश्रमों में पसरा रहा सन्नाटा, ना के बराबर पहुंचे श्रद्धालु

गुरु दर्शन पर पहरा

 

वाराणसी। कोरोना संक्रमण काल की काली छाया की ग्रहण से गुरु पूर्णिमा का पर्व भी नहीं बच पाया है। गुरु पूर्णिमा पर्व पर गुरुओं को नमन करने के लिए आस्‍था का पर्व सुबह सूर्योदय की लालिमा से ही परवान चढ़ने लगा।मगर कोरोना संक्रमण की वजह से गुरु पूर्णिमा के मौके पर मठ मंदिरों के दरवाजो पर सरकारी पहरे लगे हुये थे जिससे दूरदराज से आये श्रद्धांजलुओ की भीड़ उम्‍मीद से काफी कम रही। गुरु चरणों की रज माथे पर लगाने की कामना और मंशा के साथ कम ही लोग मठ मंदिरों और आश्रमों में आए। जो आस्‍थावान गुरु आश्रम में पहुंचे भी तो वहां कोविड गाइड लाइन का पालन करते नजर आए। गुरु चरणों को नमन कर प्रसाद ग्रहण कर आस्‍थावानों ने अपने घरों की ओर रुख किया। मान्यता है कि : गुरु पूर्णिमा के मौके पर पवित्र नदियों में स्‍नान के बाद मंदिरों में दर्शन और दान की परंपरा रही है। पूर्वांचल में गंगा, सरयू, गोमती और वरुणा आदि नदियों के अलावा सोन, कर्मनाशा के साथ ही मीरजापुर और सोनभद्र की पहाड़ी नदियों में भी लोगों ने पुण्‍य की डुबकी लगाकर अपनी आस्‍था व्‍यक्‍त की। नदियों में स्‍नान के दौरान भी लोग पूर्व के वर्षों की अपेक्षा कम ही नजर आए। वाराणसी में गंगा के प्रमुख घाटों पर स्‍नान करने वालों की भीड़ सुबह ही दिखी। इसके बाद सुबह आठ बजे के बाद उंगलियों पर गिनने वाले लोग ही घाट पर नजर आए। स्‍नान के बाद मंदिरों में दर्शन पूजन और ध्‍यान लगाने के लिए श्रद्धालु पहुंचे। कीनाराम आश्रम और पड़ाव स्थि‍त सर्वेश्‍वरी आश्रम के अलावा भी काशी क्षेत्र के प्रमुख आश्रमों में गुरु चरणों को नमन कर आशीष की कामना से शिष्‍य भाव के साथ आस्‍थावानों ने हाजिरी लगाई।

Related posts

करा रही थी जमीन कब्जा कमिश्नर ने इंस्पेक्टर समेत दो दरोगा को किया सस्पेंड

VT News

मेधावी छात्रा अनिका सिंह को रघुवंश प्रतिष्ठानम के लोगों ने किया सम्मानित

Vt News

7 दिवसीय गांधी कथा का प्रसारण आज से

Vt News