New Member | Have an account?
 
 
 
 
     
 
 
  » राज्य » बिहार
राबड़ी ने दिखाई सख्ती तो टिकट बंटवारे से नाराज तेजप्रताप
Go Back | ASHOKSRIVASTAV , Apr 08, 2019 06:19 PM
0 Comments


Visits : 4    0 times    0 times   

News Image

पटना। टिकट बंटवारे में भागीदारी नहीं मिलने के कारण बगावत पर उतारू तेजप्रताप यादव के तेवर रविवार को ढीले पड़ गए। उन्होंने देर रात ट्वीट करके परिवार में महाभारत का संकेत दिया था। बाकायदा सूचना जारी कर रविवार को प्रेस कांफ्रेंस बुलाया था। मीडिया वाले पहुंच भी गए थे, किंतु जब राबड़ी देवी और तेजस्वी यादव ने सख्ती दिखाई तो तेजप्रताप को बैकफुट पर आना पड़ा। आखिरी वक्त में उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस कैंसिल कर दिया। पिछले एक हफ्ते में यह तीसरा ऐसा मौका था, जब मीडिया को बुलाकर तेज प्रताप खुद नहीं पहुंचे। 

तेजस्वी से मांगी थी दो सीटें

नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव से उन्होंने लोकसभा की दो सीटों की मांग की थी। साथ ही सारण सीट से अपने ससुर चंद्रिका राय को प्रत्याशी बनाने के पार्टी के निर्णय के भी खिलाफ थे। जहानाबाद और शिवहर से वह अपनी पसंद का प्रत्याशी उतारना चाहते थे। इसके लिए तेजस्वी से बात भी की। मामला नहीं बनते देख उन्होंने तरह-तरह के हथकंडे अपनाकर परिवार पर दबाव बनाने की कोशिश की। जहानाबाद से पहले ही राजद ने सुरेंद्र यादव को प्रत्याशी बना दिया था। बाकी बची शिवहर सीट को हासिल करने के लिए उन्होंने दबाव बनाना जारी रखा। 

ट्वीट में दिखा गुस्सा

शनिवार को जब वहां से पत्रकार फैसल अली को प्रत्याशी घोषित कर दिया तो तेज प्रताप ने ट्वीट के जरिए आर-पार का संकेत दिया। राष्ट्रकवि दिनकर की कविता का उल्लेख करते हुए उन्होंने लिखा कि 'जब नाश मनुज पर छाता है, पहले विवेक मर जाता है।' उन्होंने दो सीटों की मांग को पांडवों के पांच ग्राम की मांग से जोड़ा और लिखा, 'दुर्योधन वह भी दे ना सका, आशीष समाज की ले न सका।' 

तब राबड़ी ने पहल की

उनके इस उद्गार को मीडिया में भाई तेजस्वी से जोड़कर देखा जाने लगा। इसी क्रम में 12.30 बजे राजद कार्यालय में प्रेस कांफ्रेंस की सूचना से माना जाने लगा कि तेजप्रताप कुछ विस्फोट करने वाले हैं। सूचना है कि ऐन चुनाव के वक्त पार्टी और परिवार को नुकसान से बचाने के लिए राबड़ी देवी ने पहल की। तेजस्वी पहले ही साफ कर चुके थे कि तेज प्रताप के हथकंडों के आगे वह झुकने के लिए कतई तैयार नहीं हैं। ऐसे में राबड़ी ने तेजप्रताप से सख्त लहजे में बात की और उन्हें पार्टी विरोधी गतिविधियों से बाज आने की हिदायत दी। आखिर में तेजप्रताप के तेवर ढीले पड़ गए और यू टर्न ले लिया। 

खाली पड़ा था राजद कार्यालय 

लालू परिवार की सख्ती के कारण तेजप्रताप की प्रेस कांफ्रेंस से पहले ही राजद कार्यालय से सारे पदाधिकारी खिसक लिए थे। पत्रकारों के लिए कुर्सियां लगा दी गई थीं, किंतु कार्यालय सचिव चंदेश्वर प्रसाद के अलावा कोई नजर नहीं आ रहा था। दरअसल, पारिवारिक झगड़ा मानकर पार्टी पदाधिकारी ऐसी प्रेस कांफ्रेंस से खुद को दूर रखना चाह रहे थे। खुद तेजप्रताप ने एक दिन पहले ही ट्वीट करके पार्टी पदाधिकारियों को चेता दिया था कि जो भी मेरे और मेरे परिवार के बीच में आएगा, उसका सर्वनाश तय है। लालू परिवार की ओर से भी कई तरीके से तेजप्रताप पर दबाव बनाया जा रहा था कि मीडिया के सामने वह न आएं।

  REPORTER ASHOKSRIVASTAV
Previous News
Visits : 4    0 times    0 times   
(1) Photograph found Click here to view            | View News Gallery


Member Comments    



 
No Comments!

   
ADVERTISEMENT

Member Poll
क्या आप केंद्र सरकार की कार्यप्रणाली से संतुष्ट है ? ?
     हाँ
     नहीं
     बिल्कुल नहीं
 



 
 
Latest News
ट्रक पर लदे 12 गोवंश सहित तीन
डुबकिया पारेषण केंद्र पर लगा 500 एमबीए
विवेक सिंह हत्याकांड में दो मुख्य आरोपी
टूटी पटरी से गुजर गई पैसेंजर, चरवाहाें
भाजपा में शामिल होते ही साध्वी प्रज्ञा
सलमान के Bharat Ki Jawani लुक पर
 
 
Most Visited
यूनियन बैंक के महाप्रबंधक द्वारा बड़े मंगल
(6095 Views )
UPSSSC में इंटरव्यू रद्द किए जाने पर
(5726 Views )
राजकीय विद्यालयों में 1548 कम्प्यूटर शिक्षकों को
(5717 Views )
गठबंधन के बावजूद लखनऊ सेंट्रल सीट को
(5674 Views )
समाजवादी पार्टी ने जारी की 325 प्रत्याशियों
(5627 Views )
सपा ने 23 और प्रत्याशियों की घोषणा
(5595 Views )