New Member | Have an account?
 
 
 
 
     
 
 
  » देश
2014 लोकसभा चुनाव में जमानत जब्त होने से आयोग को मिले इतने करोड़ रुपए
Go Back | Ashok Shrivastava , Apr 13, 2019 04:14 PM
0 Comments


Visits : 4    0 times    0 times   

News Image
लोकसभा चुनाव के लिए शंखनाद हो चुका है। ऐसे में यदि कोई चुनाव लड़ना चाहता है तो उसके लिए चुनाव आयोग ने कुछ आवश्यक मानदंड बनाए हैं। जिन्हें पूरा करने के बाद ही आप चुनावी दंगल में उतर सकते हैं। यह नियम हैं- प्रत्याशी की उम्र कम-से-कम 25 साल होनी चाहिए और उसका एक पंजीकृत मतदाता होना जरूरी है। इसके अलावा उसे एक निश्चित जमानत राशि जमा करवानी होती है। केवल वह प्रत्याशी जिसे चुनाव में कुल मतों का छठवां हिस्सा प्राप्त होता है उसे जमानत राशि वापस मिल जाती है। इसके अलावा बाकी के प्रत्याशी न केवल चुनाव हारते हैं बल्कि उनकी जमानत राशि भी चली जाती है।चुनाव आयोग ने जमानत राशि इसलिए रखी है ताकि कम से कम लोग चुनाव में उतरें और इसे गंभीरता से लिया जाए। सामान्य वर्ग की तुलना में अनुसूचित जाति और जनजातियों के लिए जमानत राशि आधी होती है। यदि किसी उम्मीदवार को कुल वोटों का छठा हिस्सा या 16.67 फासदी मत नहीं मिलते हैं तो उसकी जमानत राशि जब्त हो जाती है। 
1952 में तीन-चौथाई से अधिक उम्मीदवारों ने अपनी जमानत राशि गवां दी थी। वहीं पिछले लोकसभा चुनाव के दौरान चुनाव आयोग को 7,005 उम्मीदवारों की जमानत राशि जब्त करके 14.5 करोड़ रुपये मिले थे। पिछले लोकसभा चुनाव में 3,218 स्वतंत्र उम्मीदवारों की जमानत राशि जब्त हुई थी जिससे आयोग को 6.7 करोड़ रुपये मिले थे। 99.5 प्रतिशत निर्दलीय उम्मीदवारों को कुल वोट का छठा हिस्सा भी नहीं मिला। 2014 में अनुसूचित जाति के सबसे ज्यादा 90.5 प्रतिशत उम्मीदवारों की जमानत राशि जब्त हुई थी। वहीं अनुसूचित जनजाति और सामान्य श्रेणी में यह 83.5 और 80.5 फीसदी उम्मीदवारों की राशि जब्त हुई।

क्या होती है जमानत राशि

चुनाव में किसी भी उम्मीदवार को खड़ा होने के लिए नामांकन दाखिल करते समय एक निश्चित राशि को चुनाव आयोग के पास जमा करवाना पड़ता है। इसी राशि को जमानत राशि कहा जाता है। प्रत्याशियों की जब्त राशि चुनाव आयोग के खाते में जमा करवा दी जाती है।

बसपा की जब्त हुई सबसे ज्यादा जमानत राशि

यदि पार्टियों के आधार पर बात करें तो 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान सबसे ज्यादा बहुजन समाज पार्टी के उम्मीदवारों की जमानत राशि जब्त हुई थी। बसपा के 89.1 प्रतिशत, कांग्रेस के 38.4 प्रतिशत, तृणमूल कांग्रेस के 67.2 प्रतिशत, भाजपा के 14.5 प्रतिशत, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के 53.8 प्रतिशत और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के 36.1 उम्मीदवारों की जमानत राशि जब्त हुई थी।

लोकसभा चुनाव के लिए कितनी है जमानत राशि

लोकसभा चुनाव लड़ने वाले सामान्य श्रेणी के उम्मीदवारों को 25 हजार रुपये जमानत राशि के तौर पर जमा करवाने पड़ते हैं। वहीं अनुसूचित जाति और जनजाति के उम्मीदवारों को 12,500 रुपये देने होते हैं। 2009 से पहले यह राशि सामान्य वर्ग के दस हजार और अनुसूचित जाति और जनजाति के लिए पांच हजार हुआ करती थी।
 विधानसभा चुनाव के लिए कितनी है जमानत राशि
विधानसभा चुनाव लड़ने वाले सामान्य श्रेणी के उम्मीदवारों को दस हजार रुपये जमानत राशि के तौर पर देने होते हैं। वहीं अनुसूचित जाति और जनजाति के उम्मीदवारों को पांच हजार रुपये जमा करवाने होते हैं। पहले यह राशि सामान्य प्रत्याशी के लिए 250 और अनुसूचित जाति और जनजाति के लिए 125 रुपये हुआ करती थी। पार्षद चुनाव के लिए कितनी है जमानत राशि
विधानसभा चुनाव लड़ने वाले सामान्य श्रेणी के उम्मीदवार को पांच हजार रुपये और  अनुसूचित जाति और जनजाति के उम्मीदवारों को ढाई हजार रुपए की जमानत राशि जमा करवानी पड़ती है।
किस परिस्थिति में वापस मिलती है राशि
  • यदि किसी उम्मीदवार का नामांकन खारिज हो जाता है या वह अपनी उम्मीदवारी वापस ले लेता है तो राशि वापस लौटा दी जाती है।
  • यदि किसी उम्मीदवार की मतदान शुरू होने से पहले मृत्यु हो जाती है तो उसके परिवार को यह राशि वापस मिल जाती है।
  • यदि कोई उम्मीदवार कुल डाले गए वोट के छठवें हिस्से से ज्यादा वोट हासिल कर लेता है तो उसे राशि वापस मिल जाती है।
  • यदि किसी उम्मीदवार को छठवें हिस्से जितने वोट नहीं मिलते लेकिन वह चुनाव में जीत हासिल कर लेता है तो इस परिस्थिति में भी उसे राशि वापस मिल जाती है।

जीता उम्मीदवार लेकिन जब्त हुई जमानत राशि

1952 में आजमगढ़ की विधानसभा सीट सगड़ी पूर्व में उस समय 83,438 पंजीकृत मतदाता थे। जिसमें से 32,378 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया। कांग्रेस ने जहां बलदेव उर्फ सत्यानंद को मैदान में उतारा था। वहीं उनके खिलाफ निर्दलीय उम्मीदवार शंभूनारायण मैदान में थे। चुनाव में बलदेव और शंभूनारायण को क्रमश: 4969 और 4348 मत मिले थे। बलदेव बेशक चुनाव जीत गए लेकिन उनकी जमानत राशि जब्त हो गई क्योंकि कुल मतों के छठवे हिस्से को पूरा करने में 427 मत कम थे।
 
(Ashok Shrivastava)  
Previous News Next News
Visits : 4    0 times    0 times   
(1) Photograph found Click here to view            | View News Gallery


Member Comments    



 
No Comments!

   
ADVERTISEMENT

Member Poll
क्या आप केंद्र सरकार की कार्यप्रणाली से संतुष्ट है ? ?
     हाँ
     नहीं
     बिल्कुल नहीं
 



 
 
Latest News
ट्रक पर लदे 12 गोवंश सहित तीन
डुबकिया पारेषण केंद्र पर लगा 500 एमबीए
विवेक सिंह हत्याकांड में दो मुख्य आरोपी
टूटी पटरी से गुजर गई पैसेंजर, चरवाहाें
भाजपा में शामिल होते ही साध्वी प्रज्ञा
सलमान के Bharat Ki Jawani लुक पर
 
 
Most Visited
यूनियन बैंक के महाप्रबंधक द्वारा बड़े मंगल
(6095 Views )
UPSSSC में इंटरव्यू रद्द किए जाने पर
(5726 Views )
राजकीय विद्यालयों में 1548 कम्प्यूटर शिक्षकों को
(5717 Views )
गठबंधन के बावजूद लखनऊ सेंट्रल सीट को
(5674 Views )
समाजवादी पार्टी ने जारी की 325 प्रत्याशियों
(5627 Views )
सपा ने 23 और प्रत्याशियों की घोषणा
(5594 Views )