VT News India
International

अमेरिकी यू-2 जासूसी विमानों के एक्‍शन से बौखलाया चीन

बीजिंग। दुनिया में अलग थलग पड़ते जा रहे और सवालों से घ‍िर रहे चीन ने दक्षिणी चीन सागर में दो मिसाइलों का परीक्षण किया है। इन मिसाइलों में एक कैरियर मिसाइल भी शामिल थी। जानकारों का कहना है कि इसे अमेरिकी बलों पर हमले के लिए विकसित किया गया हो सकता है। यह परीक्षण ऐसे वक्‍त में किया गया है जब अमेरिका ने चीन पर शिकंजा कसना शुरू किया है। हाल ही में अमेरिका के दो टोही विमानों ने चीनी सेना के अभ्‍यास को कैद किया था। यही नहीं अमेरिका ने हिंद महासागर में भी स्टील्थ बी-2 बम वर्षकों विमानों की तैनाती कर दी है।

माना जा रहा है कि साथ ही दक्षिण चीन सागर में अमेरिकी कार्रवाई और अमेरिकी यू-2 जासूसी विमानों देश में दाखिल होने के जवाब में चीन ने ये परीक्षण किए हैं। हांग कांग के साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट ने चीनी सेना के अज्ञात करीबी सूत्रों के हवाले से बताया है कि डीएफ-26बी और डीएफ-21 डी मिसाइलों का परीक्षण किया गया है। इन मिसाइलों को दक्षिणी द्वीपय प्रांत हैनान और पार्सल द्वीपसमूहों के बीच वाले इलाके में दागा गया। रिपोर्ट के मुताबिक, डीएफ-26 बी को किंगहाई जबकि डीएफ-21डी को शंघाई के दक्षिण में जेझियांग प्रांत से प्रक्षेपित किया गया।असल में दक्षिण चीन सागर पर पूर्ण नियंत्रण के लिए चीन बुरी तरह बेचैन है। दक्षिण चीन सागर दुनिया के सबसे व्यस्ततम व्यापार मार्गों में से एक है। चीन ने इस इलाके को अपना बताया है जबकि दूसरी ओर अमेरिका ने विवादित क्षेत्र के ज्यादातर हिस्से पर बीजिंग के दावों को खारिज कर दिया है। बीते दिनों अमेरिका ने अपने युद्धपोतों को इन इलाकों में तैनात कर दिया था। यही नहीं दक्षिण चीन सागर के कुछ हिस्सों पर वियतनाम, फिलीपीन और अन्य देश की सरकारें भी दावा कर रही हैं। अमेरिका बीते दिनों इस इलाके में युद्धाभ्‍यास भी कर चुका है।चीन का दावा है कि उसके द्वारा विकसित की गई डीएफ-21 मिसाइल का निशाना अचूक है। सैन्य विशेषज्ञ भी इसको कैरियर किलर कहते हैं। उनका मानना है कि इसे उन अमेरिकी विमानवाहकों को निशाना बनाने के लिए विकसित किया गया है जो चीन के साथ संभावित टकराव में शामिल हो सकते हैं। चीन ने बीते दो दशक में मिसाइलों, लड़ाकू विमानों, परमाणु पनडुब्बियों और अन्य हथियारों को विकसित करने की भरपूर कोशिशें की हैं। चीन अपनी सीमाओं से परे भी अपना विस्तार चाहता है। हालांकि चीनी रक्षा मंत्रालय और विदेश मंत्रालय की ओर से इन परीक्षणों पर कोई प्रतिक्रिया नहीं मिल पाई है।

Related posts

बीजिंग-नई दिल्‍ली के बढ़ते तनाव के बीच क्वाड (QUAD) की मेजबानी करेगा भारत

Vt News

आतंकी पुलवामा आतंकी हमले का मास्टरमाइंड,मसूद अजहर के खिलाफ  वारंट जारी

VT News

पुतिन का दावा- रुस ने बना ली दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन

Vt News