VT News India
Others

अशिंका की नृत्यांजलि ने दुर्गोत्सव में किया “जगत जननी मां को नमन”

अशिंका की नृत्यांजलि ने दुर्गोत्सव में किया “जगत जननी मां को नमन”

– हिन्दुस्तान की अनेकता में एकता का दिया संदेश

– साथ ही कोरोना के कठिन दौर में बेहतर कल की ज्योत भी प्रज्ज्वलित की

लखनऊ 23 अक्टूबर

दुर्गोत्सव के अवसर पर महिला शक्ति मिशन के अंतर्गत शुक्रवार 23 अक्टूबर को नव अंशिका फाउंडेशन संस्था की ओर से नृत्यांजलि “जगत जननी मां को नमन” पेश की गई। इसमें संस्था की महिला यूथ विंग की अध्यक्षा नीशू मनोज की परिकल्पना में लोकप्रिय बाल नृत्यांगना अंशिका त्यागी ने हिन्दुस्तान की अनेकता में एकता का संदेश दिया वहीं कोरोना के कठिन दौर में बेहतर कल की ज्योत भी प्रज्ज्वलित की।

गोमती नगर की रेल विहार कालोनी के स्टूडियो में अंशिका ने दुर्गोत्सव की नृज्यांजलि में सबसे पहले प्रथम देव गणेश को नमन करते हुए “कृपा करो गौरी के लाल” भजन पर भाव नृत्य पेश किया। इस क्रम में देवी मां का आवाह्न करते हुए अंशिका ने “तेरा सजा दिया दरबार मइया आ जाओ” पर सुंदर नृत्य किया। इसमें उन्होंने बताया कि मां के लिए सबसे उत्तम दरबार भक्तों का हृदय स्थल है। ऐसे में भक्तों ने तन और मन की शुद्ध कर मां के अधिवास की तैयारियां कर ली हैं। मां के स्वागत में भक्तों की दीवानगी को दर्शाते हुए अंशिका ने “लाल-लाल चुनरी मैंया तेरी ले कर आएंगे, धानी चुनर में ओ मां अम्बे जगदम्बे सितारे हम जड़वाएंगे” पर मनभावन नृत्य किया। मां के आगमन से भक्तों का तन-मन किस तरह आनंदोत्सव मनाने लगता है इसका सजीव चित्रण अंशिका ने “ओढ़ के चुनरिया लाल, मैं नाचू तेरे अंगना में” भजन के माध्यम से किया। मां के आगमन से किस तरह छोटे-बड़े सभी भक्तिभाव में डूब जाते हैं उस मन:स्थिति को अंशिका ने “मईया के पैजयनिया रुनझुन बाजे, मैंया के आज भक्ति में छुटकी नाचे” के माध्यम से सहज रूप में पेश कर प्रशंसा हासिल की। “मां” आती हैं तो समस्त अज्ञानता के अंधकार दूर हो जाती हैं, इस भाव को अंशिका ने “मइया की जगमग ज्योत” नृत्य प्रस्तुति के माध्यम से पेश किया। इसके साथ ही उन्होंने आशा जगायी कि जल्द ही मां की कृपा से कोरोना का संकट रूपी अंधकार भी विश्व से छट जाएगा। अंत में उन्होंने गरबा के माध्यम से हिन्दुस्तान की अनेकता में एकता की मनोरम छवि पेश की। इसमें उन्होंने “ढोली रा ढोल रे बागान मारे हिच लेवी चे” पर नृत्य कर गुजरात, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, पंजाब सहित अन्य प्रांतों को एक माला में गुथे होने का सुंदर संदेश दिया। इसमें अंशिका के साथ भानवी प्रताप सिंह , अनामया पांडेय , शेरवी सिंह ने भी नृत्य किया। इस दुर्गोत्सव प्रस्तुति में ऑनलाइन पूर्व अधीक्षण अभियंता मुकेश कुमार पाण्डेय, डॉ.चित्रा पाण्डेय, पूर्व वन संरक्षक अशोक दीक्षित, पूनम दीक्षित, पूर्व डी.आई.जी.जेल एस.के.पाण्डेय, डॉ.राजेन्द्र सैनी, डॉ.संगीता पाण्डेय, ज्ञानेस कमल पाण्डेय, रेलविहार कॉलोनी के सचिव सुनील विष्ट की रचनात्मक भागेदारी रही। देशभर के सैकड़ों लोगों ने इस दुर्गोत्सव की नृत्यांजलि को फेसबुक लिंक https://www.facebook.com/Rocking-Anshika-Dancer-Model-Actress-109141597493228/ पर देखा।

ब्यूरो प्रशान्त त्रिवेदी

Related posts

एन आर पब्लिक स्कूल के प्रबंध तंत्र की तानाशाही  ने दे पाने पर बच्चों को किया अर्द्ध वार्षिक ऑनलाइन लाइन परीक्षा से वंचित।रिपोर्ट कपिल दीक्षित ब्यूरो चीफ vt news

Vt News

कासगंज-तेज रफ्तार का कहर

Vt News

सरकार के एक आदेश पर बार्डर पर जाएंगे वाहिनी के हजारों रक्षक ,क्रांतिकारी हर्षित तिवारी

Vt News