VT News India
Uttar Pradesh

आजमगढ़ के ब्लैक पाटरी के हस्तशिल्पियों को दिया दीप पर्व का तोहफा:मुख्यमंत्री योगी

आजमगढ़। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वोकल फार लोकल मुहिम को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दीपावली के एक दिन पूर्व शुक्रवार को और रफ्तार दी। अपने कालीदास मार्ग स्थित आवास पर आजमगढ़, गोरखपुर, प्रयागराज और बुलंदशहर के हस्तशिल्पियों से मुलाकात की। मुख्यमंत्री ने हस्तशिल्पियों की ओर से दिए गए ओडीओपी के उत्पाद की सराहना की। साथ ही उपहार में दिए गए सामान का हस्तशिल्पियों के खाते में आनलाइन भुगतान कर दीपावली का तोहफा भी दिया। मुख्यमंत्री से इस तरह का सम्मान पाकर हस्तशिल्पियों की खुशी देखते ही बन रही थी।आजमगढ़ के निजामाबाद के हुसेनाबाद निवासी राष्ट्रीय व राज्य स्तरीय पुरस्कार से सम्मानित हस्तशिल्पी सोहित प्रजापति एवं घुरहू राम प्रजापति ने टेलीफोन पर दैनिक जागरण को मुख्यमंत्री से मुलाकात के दौरान हुई बातों की जानकारी दी। बताया कि एक नवंबर से गोमती नगर लखनऊ मेें नाबार्ड शिल्प कुंभ मेला लगा है। उसमें आजमगढ़ की ब्लैक पाटरी, गोरखपुर के टेराकोटा (मिट्टी के लाल बर्तन), प्रयागराज की मूर्तिकला और बुलंद शहर की चीनी-मिट्टी उत्पाद की प्रदर्शनी लगी है। बताया कि मुख्यमंत्री से दिन में लगभग १२ बजे उनके सहित दो, गोरखपुर के दो, प्रयागराज के एक और बुलंदशहर के एक हस्तशिल्पिों के दल ने माटी कला बोर्ड के अध्यक्ष धर्मवीर प्रजापति के साथ मिला। सभी हस्तशिल्पियों ने मुख्यमंत्री को उपहार स्वरूप अपने-अपने उत्पाद भेंट किए। मुख्यमंत्री ने नाबार्ड कुंभ मेले में आने वाले हस्तशिल्पियों को मिलने वाले लाभ के बारे में जानकारी ली। सभी ने बताया कि प्रधानमंत्री के वोकल फार लोकल की मुुहिम, मुख्यमंत्री के साथ केंद्रीय मंत्रियों व उत्तर प्रदेश के मंत्रियों की अपील का काफी असर रहा। सभी जिलों के हस्तशिल्पियों को दो से तीन बार अपने जिलों से उत्पाद मंगाना पड़ा।

आजमगढ़ की मिट्टी कला का 20 करोड़ सालाना कारोबार

मुख्यमंत्री ने ओडीओपी के तहत चयनित आजमगढ़ के निजामाबाद की काली मिट्टी के उत्पाद के जानकारी ली। फ्लावटर पाट, मिट्टी के बने डिजाइनदार रंगीन दीयों को देखकर तारीफ की। हस्तशिल्पी सोहित प्रजापति ने बताया कि ओडीओपी में चयन के बाद ब्लैक पाटरी उत्पाद के कारोबार में काफी इजाफा हुआ है। लगभग 20 करोड़ रुपये का सालाना कारोबार हो जाता है। परंपरागत इस कारोबार से लगभग 15 गांवों के लगभग आठ हजार लोग जुड़े हैं।

हस्तशिल्पियों की समस्याओं को जाना, बजट की मांग

मुख्यमंत्री ने हस्तशिल्पियों की समस्याओं को भी सुना। इस दौरान मिट्टी कला को बढ़ावा देने के लिए माटी कला बोर्ड को कम बजट मिलने की बात कही गई। इस दौरान वहां मौजूद सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग विभाग के अपर प्रमुख सचित डा. नवनीत सहगल से बजट की मांग की। मुख्यमंत्री ने भी इसके लिए निर्देश दिए।संबंधित जिलों के हस्तशिल्पियों ने माटी कला बोर्ड की सराहना की। बताया कि इसके माध्यम से काफी सुविधा मिली है। मिट्टी पेरने व छानने वाली मशीन, इलेक्ट्रिक चालित चाक मिलने की जानकारी दी, जिससे समय व श्रम दोनों की बचत होती है। आजमगढ़ के हस्तशिल्पियों ने निजामाबाद में ओडीपी के तहत चयनित ब्लैक पाटरी उत्पाद को बढ़ावा देने के लिए कामन फैसिलिटी सेंटर स्थापना की बात की। बताया कि सरकार ने मंजूरी के बाद धनराशि भी जारी कर दी है, लेकिन राष्ट्रीय चीनी पाट विकास केंद्र में इसकी स्थापना की दिशा में अभी कोई काम शुरू नहीं हुआ है। नाली, सड़क की समस्या भी रखी। अपर प्रमुख सचिव डा. नवनीत सहगल ने इसके निस्तारण का आश्वासन दिए।

Related posts

राष्ट्रगान से सिंध शब्द हटाने की मांग कर गायक कैलाश खेर ने घटिया मानसिकता का परिचय दिया है- ओम प्रकाश ओमी

Vt News

खाद की कमी व कालाबाजारी के विरोध में कांग्रेसियों ने राज्यपाल को भेजा ज्ञापन

Vt News

बैसवारा ग्रामोत्थान समिति के द्वारा चलाया गया सड़क सुरक्षा अभियान

VT News