VT News India
National

LOC पर पाकिस्तान का दुस्साहस, भीषण गोलीबारी में 4 सुरक्षाकर्मी सहित 8 की गई जान

पाकिस्तान ने शुक्रवार को एक बार फिर लाइन ऑफ कंट्रोल (LOC) पर गुरेज से लेकर उड़ी सेक्टर तक अकारण सीजफायर का उल्लंघन किया और रिहायशी इलाकों पर भीषण गोलीबारी की। इस दौरान 4 नागरिक मारे गए तो 4 सुरक्षाकर्मी भी शहीद हो गए। पाकिस्तानी सैनिकों ने मोर्टार और दूसरे हथियारों का इस्तेमाल किया है। भारतीय सुरक्षाकर्मी पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दे रहे हैं। भारतीय सेना के सूत्रों के मुताबिक, जवाबी कार्रवाई में पड़ोसी मुल्क के 10-12 सैनिक घायल हुए हैं। कई पोस्ट और लॉन्च पैड्स तबाह किए गए हैं।

अधिकारियों ने बताया है कि उड़ी सेक्टर के नांबला में तैनात दो सैनिक पाकिस्तान की गोलीबारी में शहीद हो गए। हाजी पीर सेक्टर में एक बीएसफ सब-इंसपेक्टर की जान चली गई जबकि एक अन्य जवान घायल है। बारामूला जिले के उड़ी सेक्टर में ही कामलकोटे में दो नागरिकों के मारे जाने की खबर है, जबकि एक महिला हाजी पीर सेक्टर के बालकोटे में मारी गई। अधिकारियों ने बताया कि पाकिस्तान की ओर से दिखाई गई आक्रमकता में कई नागरिक घायल हुए हैं।

अधिकारियों ने बताया कि उड़ी में कई स्थानों के अलावा बांदीपोरा जिले में गुरेज सेक्टर के इजमर्ग और कुपवाड़ा जिले के केरन सेक्टर में भी सीजफायर उल्लंघन की रिपोर्ट है। रक्षा प्रवक्ता ने बताया कि सेना ने केरन सेक्टर में गोलीबारी का कवर देकर घुसपैठ की कोशिश को नाकाम कर दिया है।

रक्षा प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया ने कहा, ”सेक्टर सेक्टर में LOC के फॉरवर्ड पोस्ट पर हमारे जवानों ने कुछ संदिग्ध गतिविधियों को नोटिस किया। चौकन्ना सैनिकों ने घुसपैठ की कोशिश को नाकाम कर दिया।” पाकिस्तान की ओर से संघर्ष विराम उल्लंघन की जानकारी देते हुए प्रवक्ता ने बताया कि उन्होंने मोर्टार और दूसरे हथियारों का इस्लेमाल किया है। उन्हें मुंहतोड़ जवाब दिया जा रहा है।

नई दिल्ली में, बीएसएफ अधिकारियों ने बताया कि बारामूला में नियंत्रण रेखा पर बल की आर्टिलरी बैटरी में तैनात उप निरीक्षक (एसआई) राकेश डोभाल अपराह्न एक बजकर करीब 15 मिनट पर पाकिस्तान की ओर की गयी गोलाबारी में घायल हो गए और बाद में उनकी मौत हो गई। अधिकारियों ने कहा कि उसी अग्रिम चौकी पर तैनात कांस्टेबल वसु राजा गोलाबारी में घायल हो गए। उनके हाथ और गाल पर जख्म है। राजा की हालत स्थिर है।

अधिकारियों ने कहा, ”उप निरीक्षक ने कर्तव्य का निर्वाह करते हुए सर्वोच्च बलिदान दिया। उन्होंने दुश्मन की ओर से भारी गोलीबारी का सामना किया। डोभाल उत्तराखंड में ऋषिकेश के निवासी थे और वह 2004 में सीमा सुरक्षा बल में शामिल हुए थे।” डोभाल के परिवार में उनके पिता, पत्नी और नौ साल की एक पुत्री है।

कर्नल कालिया ने कहा, ”उन्होंने मोर्टार और अन्य हथियारों से गोले दागे। इसका उचित जवाब दिया जा रहा है।” एक सप्ताह के भीतर यह घुसपैठ की दूसरी कोशिश थी। इससे पहले 7- 8 नवंबर की मध्यरात्रि माछिल सेक्टर में घुसपैठ का असफल प्रयास किया गया था जिसमें तीन आतंकवादी मारे गए थे। उस अभियान में सेना के एक कैप्टन और बीएसएफ के एक जवान सहित तीन सैनिक शहीद हो गए थे। प्रवक्ता ने कहा, “भारत की सेना पाकिस्तान द्वारा जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों की घुसपैठ कराने के सभी प्रयासों को नाकाम करने के लिए पूरी तरह से तैयार है।”

Related posts

चुनाव के पहले PM मोदी ने बिहार को दी 901 करोड़ की सौगात, कहा- रघुवंश के सपनों को पूरा करें नीतीश

Vt News

आने वाले दो-तीन दिन बारिश, बर्फबारी और शीतलहर

VT News

अवंतीपोरा के त्राल में आतंकियों के साथ सुरक्षाबलों की मुठभेड़, 3 आतंकी ढेर

Vt News