VT News India
Varanasi

पुलिस मुठभेड़ के भय से बदमाश कोर्ट में आत्मसमर्पण कर गया जेल

वाराणसी। बीते रविवार को रिंग रोड के पास ऐढ़े में पुलिस से हुई मुठभेड़ में इनामी बदमाश मोनू चौहान के मारे जाने के बाद बदमाशों में अब खौफ की वायर बहने लगा है। इसकी उदाहरण मंगल वार वाराण कचहरी में देखने को मिला। लक्सा के पट्टी निवासी अनिल यादव नामक बदमाश पुलिस मुठभेड़ की भय सेे सीजेएम कोर्ट में आत्मसमर्पण कर दिया। बताया जाता है कि वर्ष 2015 में पेशी के दौरान पुलिस से मारपीट के मामले में वह जमानत पर था। इस प्रकरण में जमानत तोड़वाकर कोर्ट में हाजिर हो गया उसे न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया। दरअसल बीते रविवार को रिंग रोड के पास ऐढ़े में पुलिस से हुई मुठभेड़ में इनामी मोनू चौहान मारा गया था। मुठभेड़ के दौरान मोनू का साथी और गाजीपुर का मूल निवासी अनिल यादव फरार हो गया था। उस पर भी 50 हजार रुपये का इनाम घोषित है। उस अनिल का नाम राशि होने के नाते लक्सा निवासी अनिल यादव डर गया। इस पर हत्या, हत्या के प्रयास समेत कई मुकदमे दर्ज हैं। चार-पांच दिन पहले लक्सा के पूर्व पार्षद के भाई के साथ विवाद में मारपीट की घटना में अनिल यादव का नाम आया था। पूर्व पार्षद की पहले ही हत्या हो चुकी है। मामला सिगरा पुलिस तक पहुंचा लेकिन किसी तरफ से शिकायत न आने पर कोई कार्रवाई नहीं हुई थी। उक्त घटना के बाद अनिल यादव अस्पताल में था। माना जा रहा है कि पुलिस की कार्रवाई से अपराधी डरे हुए हैं। अनिल यादव ने 20 जून 2015 को कचहरी से पुलिस कस्टडी से भागने की कोशिश की थी। उसे लाने वाले सिपाही ने तब कैंट थाने में मुकदमा दर्ज कराया था। बताया था कि हत्या, हत्या के प्रयास और आर्म्स एक्ट के आरोपित अनिल समेत चार को पेशी पर लाया गया था। इस दौरान पिशाच मोचन के उमेश, औरंगाबाद के मनोज चार से छह साथियों के साथ आये और अनिल समेत अन्य आरोपितों को सामान देने लगे। अनधिकृत रूप से सामान देने का विरोध करने पर मारपीट कर ली। इस दौरान अनिल व अन्य भागने लगे। हालांकि पुलिस ने दौड़ाकर पकड़ लिया। अनिल ने इसी मुकदमे में जमानत तोड़वाई है।

Related posts

बच्‍चे का गला घोंटकर फांसी के फंदे पर लटककर महिला ने दी जान

VT News

मेगा क्रेडिट आउटरीच कैंप में बैंकों द्वारा 2236 लाभार्थियों को रु० 126.23 करोड़ का ऋण स्वीकृत/वितरित किया गया

VT News

एक की मौत ,24 मिले कोरोना पॉजिटिव

Vt News